Jivan me safalta kaise paye|Thought for success in hindi

success-rule

Table of Contents

Safal jivan ka rahasya-सफलता के १० रहस्य जो आपको निश्चित सफलता की और ले चले

Every one wants to success in his life, it is very common. सफलता को पाना बड़ा ही अच्छा लगता है. कौन ऐसा होगा जो सफलता को पाने की इच्छा नही रखता हो. यहाँ पे में आपको बहुत simple तरीके से बताता हु की how to success in our life. When you will know about this simple rules, you can definitely ahead to your succeed.

success formula in life in hindi

लेकिन ये इतना आसानभी नहीं क्योकि जो सफलता की और चल पड़ता है उसे महेनत करनेमें पीछे हठ नहीं करनी चाहिए. महेनत के मजबूत कंधे पर ही सफलताके कलश टिका है. It is also true The spirit of success keeps us energized to succeed and move forward. Now we describe about the ten golden rule of success. .

1. सफलता के बारे में बार न सोचे लेकिन पूरा ध्यान अपने प्रयासों पर दे..

यहाँ पर में एक बहुत अहेम बात बताउगा. Majority लोग क्या करते है की सफलता के अंतिम चरण के बारेमे ही सोचते रहते है. में इतना बड़ा हो जाऊंगा ! में बड़ी कम्पनी का मालिक बन जाऊंगा ! फिर मेरी पहेचान और ख्याति बड़े बड़े लोगो में होगी ! में बड़ा धनि बन जाउगा..आसमान को छूने वाली सोच को मनमे उठाके घूमते है… बस मन ही मन बार बार यही सोचते रहते है. लेकिन

you are to be most surprised knowing that the men who succeed in his life did not think about his present status but they stay on his work and work and at last achieve his goal. कभी तो उन्हें मालूम ही नहीं होता है की वह इतने बड़े इन्शान बन जायेगे. उनके लिए तो बस महेनत करने में और अपने काम पर ही लगाव होता है. वे तो केवल महेनत ही करते रहे आगे आगे एक कदम रखते गए और सफलता को पाते गए.. .

यहाँ पे ये होता है की अगर आप सफलता के अतिम पड़ाव के बारेमे बार सोचते रहे तो तब तक का लम्बा सफर कट नहीं पाएगा. आप सफ़लता के लिए एक प्रकार के अधीर हो जाओगे और वर्तमान में जो तुम्हारा कार्य है वह ठीक से नहीं होगा. अंतमे सफलता का ख्याल केवल दिमाग में ही रह जायेगा. मेने ऐसे कितने लोगो को रंगीन सपने देखते हुवे देखा है.

आने वाले हर कदम पर ध्यान दे

जो केवल सपने देखते है करते कुछ नहीं. इसलिए यहाँ फंडा यह हे की हमें दिन रात हमारे सामने जो पहला कदम हे उन पर ही ध्यान केन्द्रित करना है. उनके एक एक पड़ाव को पार करना ही हमारे लिए एक लक्ष है. फिर उसे पार कर जाने के बाद दूसरा, फिर तीसरा… इस तरह से हम आगे बढ़ते जायेगे.

जैसे अँधेरी रातमे कोई फानस लेके चलता है तो उसे क्या पूरा रास्ता दिखाय देता है ? नहीं, उसे तो बस अपना अगला कदम ही ठीक से दिखाय देता है ! और इनकी तो अव्यश्कता है क्योकि एक एक कदम करके पूरा रास्ता कट जायेगा. अगर शरु से उसे पूरा रास्ता दिखायभी दिया तो हो शकता है वे “ये तो बहुत लम्बा है कैसे पार कर पाउँगा” ऐसा सोचके बिचमे ही बैठ जाये

In short we should work hard and after achieving one step, start second step but do not think about last achievement frequently.

भगवद गीता में भगवान श्री कृष्णने यह कहा है की कर्म करना ही हमारे लिए है फल की अपेक्षा के लिए बार बार अधीर नहीं होना है. क्योकि ये अपेक्षा कर्म को ठीक तरह से करने नही देती. हमारा ध्यान उनके फल पर ही टिका रहता है.
” कर्मण्येवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन “
.

2. Enjoy every step of work which will keep you moving forward

माफ़ की जिए लेकिन जरुरी है यह दूसरा rules भी पहले rules के साथ जुड़ा हुवा है. आम तोर पर यहाँ होता यह है की जब तक पूरी सफलता नहीं मिलती तब तक कोई आनद और उत्साह का अनुभव् नहीं होता क्योकि हमने आनंद का मापदंड पूर्ण सफलता को ही माना है.

यह बात गलत है. हमारा आनंद किस्तोंमें बटा हुवा है. सफलता के प्रत्येक कदम पर आनंद मनाये. ये जरूरी है आगे बढ़ने के लिए, क्योकि यही हमें अगले कदम की और जाने के लिए उत्साहित करता रहेगा. उनका मतलब साफ है की हमारे वर्तमान कदम ही हमारा सच्चा साथी है.

उनकी सफलता का आनंदभी पूरी तरह से उठाना है तबही आपका जीवन सफलता के साथ आनंदमई भी हो शकेगा. वरना यहाँ होगा ये की आप सफलता के पीछे भागते रहेगे और जीवन पूरा बीत जायेगा.

जैसे गधे के पीछे फटाके बांध दिए जाये और गधा बेचारा जैसे जैसे फटाके फूटते रहेगे वैसे वैसे वह भागता रहेगा. लोगो को लगे गा की गधा कैसे आगे बढ़ता जा रहा है. लेकिन गधा ही जाने सच बात क्या है..

इसलिए हमे सफलता तो चहिये लेकिन पुरे उत्साह के साथ, हम हर पल आनंद और उल्लास के साथ झुमता रहेने चाहिए. हमारे सब सिध्धांत yoga के साथ जुड़े हुवे है इसलिए मेरे सभी ब्लॉग में कही न कही योगका जिक्र होगा ही.

3. Do not Compare each of your steps with the successful person but take inspiration from him

यह बात सफलता के प्रयास करते समय याद रखने जैसी है. जब हम किसीभी सफल व्यक्ति के बारेमे सुनते है पढ़ते है तब उनके कारनामो से इतने प्रभावित हो जाते है की बस मन ही मन उनकी नकल करने लगते है. उस व्यक्ति ने जो कुछ किया है वैसा ही हम करे तो सफलता मिल पायेगी ऐसा लगता है.

लेकिन यह बात सच नही है. हरेक व्यक्ति का जीवन, उनकी स्थिति, आसपास की परिस्थिति और उनकी खुदकी क्षमता एक जैसी नहीं होती. इश्वरने प्रत्येक व्यक्ति का जीवन एक जैसा नही बनाया !! इसलिए हमे उन सफल व्यक्ति की केवल नक़ल नहीं करनी चाहिए बल्के उनसे प्रेरणा लेनी चाहिए. आप सोचेगे both are same but there is so difference between them.

हम सब जानते है की हमारे माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्रभाई मोदीजी पहले चाय बेचने का काम करते थे. तो क्या हम चाय बेचने लगे तो उनकी तरह बन शकते है !! नही न, यहाँ पर हमे उनके जो परिश्रम, निडरता और जो कुछभी गुण है उनको ध्यान में रखने चाहिए.

दूसरी बात यह है की हमारा उत्साह काम होता जायेगा

दूसरी बात यह है की बार बार comparison करते रहने से हमारा उत्साह कम होता जायेगा. और जैसे ही हमे ये लगेगा की ” में जो करता हु वह तो उनके आगे कुछ नही है..” तुरंत ही हम demotivate हो जायेगे और मन ही मन लघुताग्रथि के शिकार बनते जायेगे. परिणाम स्वरूप “मे नही कर पाउँगा, में तो बहुत पीछे हु.. ” ऐसा सोचकर बिचमे ही प्रयास करना छोड़ देगे.

हा यहा पर यह positive है की हम उन्से प्रेरणा ले और यह सोचे की अगर वह लोग कर शकते है तो में क्यु नहीं कर पाउगा ?

दूसरी बात यह है की हो शकता है हम कोई दुसरे तरीके से सफल हो शके. दो सफल व्यक्ति के संजोगोभी एक जैसे नहीं होते. हा जो प्रमुख लाक्षणिकताऐ होती है वह समान होती है. जैसे परिश्रम, आत्मविश्वाश, leadership, दुसरे को प्रभावित करने की क्षमता, आगे बढ़ते रहने की तीव्र इच्छा इत्यादि.

4. सफलता के डगर पर निष्फलता बहुत स्वाभाविक है उन्हें हमारा पथ दर्शक बनाना है !!

हमारा जीवन कोई एक पहलेसे रचाई गई story नहीं है. यहाँ पर तो पग पग पर turning point आते है. कब कोनसी मुसीबत दरवाजे पर दस्तक दे वह मालूम नही. हम सोचते कुछ और होता कुछ और. यह तो प्रकृतिका क्रम है.

लेकिन हमें क्या करना है की पहले से ही मनमें यह बात बिठा देनी है की बिचमे निष्फलता तो मिलेगी लेकिन उनसे डरना नही. उल्टा उन मुसीवत को ही एक तक समजकर उनसे कुछ न कुछ शिखना चाहिये और पुरे जोश से आगे बढ़ना चाहिए.

कभी कभी तो प्रारम्भ में मिलनेवाली निष्फलता लाभदेवा हो शक्ति है. क्योकि वह प्रारंभ से ही हमारी त्रुटीऔ को बताती है जो हमे आगे बढ़नेसे रोकती हो. सही समय पर उनकी पहेचान करके उसे निकल देने से आगेकी और बढ़ा जायेगा. हम जानते है की अब्राहम लिकंन की बार अमेरिका के राष्ट्रपति की election हर गए फिरभी लगातार प्रयास जारी रखा और अंतमे अपने ध्येय को पा कर रहे.

5. पल पल का हिसाब रखना यहाँ पर बेहद जरूरी है. success is nothing but use of time in proper direction

अगर हमे जीवन में कुछ करना है, जीवन को बेकार यु ही नहीं जीना है तो हमे time management पर जरुर ध्यान देना चाहिए. इनके लिए में आगे एक blog जरुर लिखूगा. लेकिन यहाँ पर तो एक बात हमारे दिमागमे अच्छी तरह से बिठा देनी है की हमारे जीवनमे अगर सबसे ज्यादा कीमती चीज अगर है तो वह हमारा समय है.

समय को यु ही गवा देना हमारे पिछड़ेपन का कारन हो शकता है. इसीलिये हमे एक time table बनाना चाहिए और बार बार उन पर ध्यान केन्द्रित करना चाहिए की हम बेकार में समय गवा तो नही रहे न ?

अगर हम relaxation का समय निकालते है तो भी पूरी तरह हमे उनका अनुभव होना चाहिए. उनमे फालतू विचार करना और अपने आप को तंग करनाभी समय का व्यय ही है. नीद जरूरी है लेकिन अगर हम अच्छी तरह से सोते ही नही तो ये भी समय का व्यय है.

समयको समय पर  proper direction में व्यतीत करना ही सच्चा time management है. सफल व्यक्ति अपने time को सही तरीके से इस्माल करने से ही सफलता के शिखर सर कर पते है. भगवान ने हर इन्शान को समय दिया है और कुछ न कुछ skill दी है सही समय पर सही skill को इस्तमाल करना और उसे उजागर करना ही सफलता कहलाती है.

6. प्रतिक्रियासे न डरे और सभी को अपना ध्येय मत बताये

प्रकृति का एक नियम action and reaction. हम जबभी कोईभी कार्य आरंभ करते है तो इसमें प्रतिक्रिया आना बहुत स्वाभाविक है. ये reaction हमारे अनुकूलभी हो शकता है और प्रतिकूलभी !! लेकिन डटे रहना हमारा निश्चय होना चाहिए.

हर कोई की एक mentality है की रोजबरोजकी क्रिया से कुछ अलग हो की तुरंत उसके प्रति अपना reaction दे. मान लीजिये आप सुबह छे बजे उठते है यह आपका routine है. उनके बजाय आप सुबह चार बजे उठेगे तो आपके घरमे ही reaction आने लगेगे.!!

आपकी second half तुरंत ही बोलेगी “क्या काम है आज इतनी जल्दी उठ गए !!” अगर आप रोज रोज इतनी जल्दी उठने लगे तो कोइ कोई तो आपको समजानेभी लगेगे की “बीमार हो जाओगे, पूरी नींद लेना जरुरी है..”खामखा क्यों परेशान होते हो, सो जाओ न यार..” इत्यादि.

लेकिन हमें अच्छे कार्य में पीछे हठ नहीं करनी है. प्रतिक्रिया से नहीं गभराना है. “लोग क्या कहेगे..”, मेरी हँसी उडायेगे” ये सब सोचकर हमे सफलता के और बढ़ते कदमो को रोकना नहीं है. क्योकि लोगो को कुछ भी लेना देना नही है आपसे. वह तो बस यु ही दुसरोके बारे में उल्टा सुलटा कहकर मजा ले रहे होते है.

में दावे के साथ कहता हु की यही लोग जब आप सफल हो जाओगे तब आपके आगे पीछे घुमेगे और आपके प्रशंशको में एक होगे. इत्तिहास इस बात का साक्षी है की दुनिया के महान लोगो के जीवन में भी यही हुवा है. इसलिए हमेभी इनके लिए अपने आप को तैयार रखना है.

दूसरी बात यह है की हमने जो निश्चय किया है उनकी चर्चा सभी के बिच बार बार नही करनी है कोयोकी जब हम ऐसा करेगे तब वे हमे बजह रोकनेका प्रयास करेगे. “तू ये नहीं करपायेगा..”, “ये तेरे बस का नही है..” ऐसा कहे कहे कर आपको demotivate करते रहेगे.

हो शकता है उनमे से कोई छुपे शकुनी भी हो जो आपसे झलते हो. हा, आपका शुभचिंतक हो उनसे इस बारेमे जरुर बताना चिहिए जो आपको अच्छी सलाह दे .

7. प्रयास करते रहे क्योकि हो शकता है आपका वही प्रयास आखरी हो जो आप छोड़ रहे है !!

हमने चीटी के बारेमें तो सुना है की चीटी बार बार दीवार पर चढ़ती है और गिरती है फिरभी प्रयास करना नही छोडती!! सफलता का रहस्य यही पर छिपा है. हमे यहाँ पर मालूम नही की हमारे कितने प्रयासों के बाद हमे सफलता मिलेगी.

यहाँ पर ये हो शकता है की हमारी मंजिल बेहद नजदीक हो और हम प्रयास करना छोड़ दे और निष्फल हो जाये. कुवा खोदने वाला खनिक खोदता ही गया खोदता ही गया लेकिन आखरी वख्त पर थक गया और उसने प्रयास करना छोड़ दिया. तबही कोई ओंर आया और एक ही कुल्हाड़ीमें पानी को बहार ले आया.

वास्तवमे यहाँ जरुर थी एक प्रयास की लेकिन उस खनिक को पता नही था की कितने प्रयास के बाद उसे पानी की सफलता मिलेगी !!! इसलिए हमे यहाँ क्या करना चाहिए की प्रयास करते रहना चाहिए. कब हमारे पर कृपा हो जाये यह कह नही शकते.

8. जड़ता को छोड़ दे, क्योकि कभी कभी हम प्रयास करते है उनसे अलग ही दिशामे सफलता मिलने की संभावन हो शकती है 

हमे कोनसी दिशामे प्रयास करना चाहिए ? हमे हमारा जीवन ध्येय क्या रखना चाहिए ? ये questions हमे बार बार सताते रहते है. कभी कभी तो हम इसमें बुरी तरह उलज जाते है. यहाँ पर एक बात का ध्यान रखना है की हमे किश दिशामे सफलता मिलेगी यह निश्चित नही है.

हमने देखा है की दुनिया के कई सफल लोगो ने प्रारंभ में कुछ ओंर ही बनना सोचा हो और आगे जाके कुछ ओर ही बन गए. इनका कारन यह है की जैसे जैसे हम आगे बढ़ते जायेगे वैसे वैसे हमे ये बात मालूम होती जाएगी की हमारी skill कोनसे subject में powerful है.

ये मालूम हो जाने के बाद हमे रास्ता बदलनेमे हिचकिचाना नही चाहिए (don’t hesitate to change our way). यहाँ पर हमारी खुदकी आत्माका आवाज हमे सुनना चाहिए .

9. अपने कार्य का आंकलन करते रहे और त्रुटीऔ को दूर करते रहे.

supervise your work time to time so that we can improve our fault and go ahed for success प्रयास करना ओंर उन प्रयास में हम कितने सफल हुवे उनके बारेमे सोचना यही सचा rule है सफलता की डगर में आगे बढ़ने में.

अगर हम सोचे समजे बिना चलते रहे तो हम सही रस्ते पर है या गलत ये मालूम ही नहीं पड़ेगा. दूसरी बात यहाँ है निष्फलता से सिखनेकी. हमें हमारे सभी प्रयासों और उनके results का बारीकी से अभ्यास करेगे तब ही हमें अपनी गलतीओं का अहेसास होगा और आगे हमे ऐसा नहीं करना चाहिए ऐसा मालूम होगा.

10. Develop our inner strength with yoga

यह सब कुछ करने के लिए हमे भीतरिय चेतना की अव्यश्कता है. आत्मविश्वास, उत्साह, निरंतर प्रसन्नता का अनुभव, निडरता, अनोखी सूज, मधुर वाणी, लम्बे समय तक बिना थके और पूर्ण उत्साह से कार्य करने की ताकत ये सब हमें योग प्रदान करता है.

हर कोई जो सफल होना चाहता है उसे साथ साथ योग का अभ्यास करना चाहिए. ये उनके लिए पूरक शक्ति के रुपमे काम आएगा. योग हमारे भीतर ही ज्ञान का वह स्त्रोत जागृत करता है की हमे कुछ ऐसे नये नये ख्याल आते है जो हमने कभी सुने और पढ़ेभी न हो.

इसलिए आजकल हम देखते है की बड़े बड़े businessmen, CEO of company, actors, politician etc योग का अभ्यास करते है. हमारा तो ये सारा blog ही योग पर आधारित है. योग के लिए और उनके सूत्रों को समजाने के लिए यहाँ पर बहुत ज्यादा लिखा जायेगा. योग एक अद्भुत विद्या के रूप में विज्ञान के रुपमे प्रगट होता जा रहा है. इसीलिये यहाँ पर योग के सभी page ओंर post का अभ्यास करना जरूरी है.

ये लो सफलता के सोनेरी सूत्रों जो हमे सफलता की और आगे बढ़ने में उपयोगी होगे. क्योकि हम यहाँ पर ही कोई न कोई भूल कर बैठते है और आगे नही बढ़ शकते. हमे इन सबका अभ्यास करके सफलता की और आगे बढ़ना चाहिए. आप सभी के लिए सुभेच्छा और फिर कुछ नया ले कर आयेगे. आपका अभिप्राय comment box में जरुर लिखे..

6 thoughts on “Jivan me safalta kaise paye|Thought for success in hindi”

Leave a Comment