आदत को कैसे बदले-बुरी आदत से छुटकारा कैसे पाए-Importance of habit

apani-aadat-ko-kaise-badle

मित्रो, आज हम जो विषय छेड़ते है वह हमारे जीवनमें बेहद महत्वपूर्ण है. how to change our habit क्योकि ये topic हमारे जीवन की पूरी रूप रेखा तैयार करता है. हमारा जीवन एक वर्तुल की तरह है. हमारी सारी क्रिया और सोच बार बार हमारे सामने पुनरावर्तित तरीके से सामने आती है.

पूरा जगत एक बड़े घेरे में रहकर घूम रहा है. ये तो हमने विज्ञान में भी पढ़ा है. चन्द्र पृथ्वी के असपास, पृथ्वी सूर्य के आसपास, सूर्य भी एक केंद्र के आसपास घूमता है. रात दिन होते है, अलग अलग मौसम एक के बाद एक आती रहती है.

जन्म और मृत्यु भी इसी क्रम से होते रहते है. हमे भूख लगती है, हम खाना खाते है फिर भूख लगती है फिर खाना खाते है. रात को सोते है सुबह पे उठ जाते है फिर रात होती है फिर सो जाते है. इस तरह से ये सब बारी बारी पे होता रहता है.

यही पर हमारी आदत का विज्ञान भी काम करता है. This is the science of habit हम जो भी क्रिया करते है वह फिर से हमारा मन करने को चाहता है. यु कहो की बार बार उसी प्रकार की सोच प्रगट होती है. इस सिधांत को नजरमें रखते हुवे, अगर हम आदत अच्छी डाले तो धीरे धीरे यही आदत हमे उपर उठाती जाएगी.

अगर हम बुरी आदत का शिकार बन गये तो, यही आदत हमे निम्न स्तर पर ले आएगी. Habit can spoil our life में तो कहता हु आदत ही सब कुछ है. जो महापुरुष होते है उनके जीवन में भी यही आदत ने कमाल किया है. दुनिया के सफल व्यक्ति को देखे तो वह भी अपनी दिन चर्या में बहुत ही नियमित थे habit can change our life किसी को नियमितरूप से किताबे पढने की आदत है तो एक दिन उसे, ऐसी कोई प्रेरणा मिल जाएगी की उनका जीवन ही बदल जाएगा.

अब हम आदत का अर्थ, उनको कैसे डाले और कुछ ऐसी अच्छी आदते जो हमारे जीवन को पूर्ण रूप से बदल देगी उनका अभ्यास करेगे इतना ही नही बुरी आदत से छुटकारा पाने के लिए क्या करे ये भी समजेगे

Table of Contents

आदत का अर्थ-Meanning of habit

जो कार्य हम बार बार करते है, वह कार्य ऐक टाइम टेबल जैसा हो जाता है. मतलब की हम सोचे या न सोचे फिर भी हम वही कार्य में प्रेरित होते रहे तो उस कार्य के प्रति हमारी आदत बन गई है ऐसा हम कह शकते है.

हमारी सोच के बाहर जो कार्य के प्रति हम प्रेरित होते रहे वही आदत है. आदत की सबसे अच्छी और रोचक बात कहे तो यह है की अगर कोई कार्य में हमारी आदत बन गई तो उनका भार हमे नही लगेगा. हमारा शरीर और दिमाग अपने आप ही उस कार्य में लग जायेगा.

लेकिन रुकिए ये जितना अच्छा है उतना भयावहभी है क्योकि अगर बुरी आदत में फसे तो यही आदत हमे उल्टे रास्तेभी इतनी ही जोर से ले जाएगी क्योकि यह तो ऐक यंत्रवत क्रिया है उसे अच्छा बुरा नही है.

जो भी हो अगर हमे आदत डालनी हो तो एक बात तो तय है की हमे क्रिया को उसी चोक्कस समय पर बार बार करते रहना है की जब तक वह हमारा जीवनका एक भाग न बन जाये. सच पूछो तो आदत बहुत ही important है हमारे जीवनमें.

हमारे जीवन में आदत का महत्व-Importance of Habit in life

अगर जीवन को आदत का नाम दिया जाये तो कुछ भी गलत नही !! हमारा जीवन आज जो कुछ है वह आदत के अनुसार ही है. हमारा ब्लॉग तो yoga and spirituality का आधार ले कर चलता है. इसलिए हम तो कहेगे की इस जीवभाव में रहना भी एक आदत है.

मतलब की हम कई जन्मो से इस प्रकार के तन और मन के कोचले में रहते है. इसलिए ऐसी आदतसी हो गई है we are doing repeatedly the same work due to habit !! यही हमारा बंधन है और उनसे मुक्त होने के लिए जो हम प्रयास करते है, वही अध्यात्म है योग है . अगर कोई जीवन में आगे बढ़ना चाहता है तो उसे बस अच्छी आदते डालनी होगी. एक टाइम टेबल के अनुसार चलना होगा.

कार्य को नियमितरूप से करते रहो-Do that work regularly for habit

क्योकि कोईभी सिध्धांत तब तक हमे काम नही आता, जब तक हम उनका प्रयोग हमारे जीवन में न करे. हमारे जीवन में उनका प्रयोग तब ही हो शकता है, जब हम नियमित रूप से उसे करते रहे. नियमित रूप से करते रहने से यही सिध्धांत हमारे जीवन का एक हिस्सा बन जायेगा. फिर हमे बार बार पढने की या उसे रटने की आवयश्कता भी नहीं पड़ेगी.

केवल सोचने से कुछ नही करने से सब होता है

पढ़ते तो सब कोई है जानने का प्रयास तो सब कोई करते है. इतना ही नही कई लोगो को बहुत कुछ पता भी होता है. लेकिन वही लोग आगे बढ़ शकते है जो उसे करने का जुनून रखते है !! मतलब की एक बार ठान ले फिर निरंतर वही राह पर चलते रहे तब वह राह उनकी खुदकी राह बन जाएगी. regular work can build good habit

नियमितरूप से करने से उस काम का भार हमे नही लगेगा उनके बारेमे हमे ज्यादा सोचना नही पड़ेगा

आदत डालने से उस कार्य को करने के लिए कुछ सोचना नही पड़ता. हमारा दिमाग और शरीर अपने आप ही दौड़ पड़ता है. किसी को सुबह पर early morning उठने की आदत है तो उसे उठने के लिए ज्यादा प्रयास नही करने पड़ेगे. खुदम खुद उनकी नींद उड़ जाएगी और वह आसानी से उठ पायेगा. It is become easy for us doing that job which is our habit.

समय समय पर काम होता रहेगा इसलिए समयका व्यय नही होगा.

हमारा जीवन नियमित हो जाता है. इसलिए समय का व्यय नही होता है. परमात्मा ने हमें जो समय दिया है वह लिमिटेड है. हमारा पल पल बीतता जा रहा है. अगर कुछ किये बिना हम बैठे रहे तो पूरा जीवन युही बीत जायेगा.

जीवन ध्येय की सिध्धि के लिए हमे कुछ तो करना चाहिए. एक ध्येय को अपनाकर उनके अनुसार आदत डालते रहने से हमारे जीवन की प्रत्येक पल का उपयोग ठीक तरह से हो पयेगा. कोई भी पल व्यर्थ नही जायेगा use of every moment of our life due to habit.

आदत एक सरल हप्ते की स्कीम है धीरे धीरे व्यक्तित्व विकाश करेगा

हमारा व्यक्तित्व धीरे धीरे सरल हप्ते में डेवलोप होता जायेगा. हा ! यह बात सही है. अगर कोई एक दो दिन में सब कुछ करनेका प्रयास करे तो वह निराश हो जायेगा क्योकि एका एक सब कुछ नही हो पायेगा. उनके लिए उन्हें धीरे धीरे अपने आप को ढालना होगा. यह ढालने की क्रिया ही एक आदत है.

In short अपने रोम रोम को वह आदत का चोला पहना के कठिन कार्यभी आसान कर शकता है.

योग में तो नियमितताका बड़ा महत्व है-consistency in yoga

योग और अध्यात्म तो आदत पर ही टिके हुवे है. योग में आसन, प्राणायाम, ध्यान इत्यादि एक दिन की प्रक्रिया नही है.

पतंजलि रुषी ने योग सूत्र में बताया है की

” स तु दीर्घकालनैरन्तर्यसत्कारासेवितो दृढभूमिः ॥ १.१४॥ ”

मतलब की निरंतर अभ्यास द्वारा ही योग की भूमि यानी की योग की भूमिका दृढ होगी. योग अपना योग बन जायेगा. में ध्यान कर रहा हु ऐसा न लगे और ध्यान में बहते जाये मतलब अहम का लोप कर दे वही तो ध्यान का रहस्य है. यह तबही संभव होगा जब हम आदत डालेगे नियमितरूप से करते रहेगे.

आदत हमारा जीवन बदल दे और आदत डूबाभी दे-Habit can be good or bed

आदत अगर बुरी हुई तो जीवन को बर्बाद करके रख देगी. Bed habits can spoil life आदत का तो एक सिध्धांत है की बार बार जो क्रिया repeat होती है उसे बार बार करने की इच्छा होती है. लेकिन अगर कोई विपरीत क्रिया करने लगे तो उनकी आदत भी बन जाएगी !

बुरी आदते और उनका प्रभाव-Bed habits and its effect

किसी को मोबाईल में addiction of mobile game गेइम खेलने की आदत बन गई. तो यही आदत उनके समय को खा जाएगी ! उनका mind एक तरहसे lazy बनता जायेगा. उसी तरह से बैठे रहने की आदतभी ऐसी ही आदत है. व्यक्ति कुछ न करते हुवे केवल आलसी बनके बैठा रहता है यह बुरी आदत है.

buri-aadat-se-kaise-bache

कुछ और भी आदते जो व्यसन कहलाते है. वह अगर लग गई तो सारा जीवन ही बर्बाद हो जायेगा धुम्रपान, शराब, जुवा, व्यभिचार इत्यादि habit मनुष्य को शारीरिक, मानसिक, सामाजिक, आर्थिक तरह से बर्बाद करके रख देगी.

यहा भी वह जीतन बार बार वह क्रिया करता जायेगा उतना ज्यादा उसमे फसता जायेगा. ताजुब की बात तो यह है की बुरी आदत में व्यक्ति ज्यादा फसता है, अच्छी आदत डालने के बजाय..उनका कारण यह है की स्वभाविक रूप से प्रकृति हमे निन्म स्तर पर खिचती रहती है. पानी के बहाव की तरह.

इनका उपाय एक ही है की हमे आत्मनिरिक्षण करना चाहिए. नींद में रहकर जीना छोड़ देना चाहिये. अपने आप को पूछो, “क्या मेरा जीवन बुरी आदत का शिकार बनता जा रहा है !! अगर हां, तो उसे तुरंत ही रोको ! चलने न दो सब कुछ !! वरना बेहोशी में हम कितनी ही बुरी आदते का शिकार बनते जायेगे पता ही नही चले गा.


कोई लोगो को पोर्न देखने की लत लग जाती है. बस में तो यु ही देख रहा हु ! इसमें क्या एतराज !! ऐसा सोच कर बेध्यान से सब कुछ देखते रहते है. फिर देखते ही देखते उनके वह addict हो जाते है. उनका पूरा brain wash हो जाता है. दिमाग एक तरह से सिकुड़ जाता है.

उनमे दिव्य विचार प्रगट ही नही होते. धीरे धीरे शाररिक शकती एवं मानसिक शक्ति चली जाती है. दिव्यता ऐसे गलत सोच से दूर होती जाती है. Sex के वास्तविक स्वरूप से भी उसे मानसिक रूप से सोचना बहुत ही bad habits है. क्योकि इनसे बहुत सारी शक्ति केवल सोचने से चली जाती है.

बुरी आदत से छूटने के उपाय-Some Technics to overcome from bad habit

बुरी आदतसे छूटना अति आव्यश्क है क्यों की ये हमारे जीवन की दिशा ही विपरीत कर देती है. कैसे छूटे ? हम दो बाते सोचेगे !! पहली है बुरी आदतका हमारे जीवनमें किसीभी तरहसे प्रवेश न हो पाए.

बुरी आदत का प्रवेश किसी भी तरह से न हो पाए ये याद रहे…

आपने ये ब्लॉग पढ़ा ? आप gyanprapti से जुड़े.. जैसे ही जुड़े की एक संकल्प लेना है ! में मेरे जीवन में कभीभी बुरी आदतको प्रवेश ही नही दुगा !! क्यों की सबसे बड़ा बचाव बुरी आदत को प्रवेश न देन है !! पहले आदत को घर करने देना और फिर उसे दूर करने के लिए प्रयास करना ये तो मुर्खता है.

इसके लिए हमे सोते सोते नही जीना. केवल बेध्यान स्थिति में काफी सारी आदते हमारे जीवन में घर कर जाती है. अगर कोई अपने आप पर सोचना शुरू करे तो यह हो शकता है. लेकिन हम दूसरे के बारेमे ही सोचते है, दुसरे के अवगुणों का आंकलन करते रहते है.

इसलिए हमे यह पता ही नही चलता की मुझ में क्या गरबड है. कौन सी गलत आदत का शिकार हम होते जा रहे है.which habit is bad for our life

फिरभी अगर किसीभी तरह से ये आदत हमारे जीवनमें स्थान पा ले तो हमे क्या करना चाहिए. ऐसे कदम जो हमे इस चुंगाल से बचा शके ! बुरी आदत को सुधारना इतना मुश्किल क्यों है ?

जब कोईभी व्यक्ति बुरी आदत का शिकार हो जाते है तब वह केवल उसी कार्य का आदि नही हो जाता बल्कि अपना होश मतलब चेतना भी खो चूका होता है. अपनी अभीव्यक्ति को भूल जाता है. सरलभाषा में कहे तो वह इतना आदत में बह जाता है की अपने आप को कंट्रोल करना उनके लिए बहुत ही कठिन हो जाता है.

अपने आप पर उनका नियन्त्रण समाप्त हो जाता है. बुरी आदत भी एक प्रकार की उल्टी दिशा की एकाग्रता है. एकाग्रतामें ये होता है की आदमी उस कार्य या ध्येय में इतना एकरूप हो जाये की वह अपने आप को ही भूल जाये.

अपने आप पर नियन्त्रण करने का प्रयास

अगर यही आदत अच्छी दिशामे होती तो धीरे धीरे वह उपर उठता जाता. लेकिन विपरीत दिशा में है इसलिए वह अपनी चेतना से दूर जाता है. अपने “आप से”, “आत्मतत्व से” अलग होता जाता है. इसलिए तो उनके दुःख की शुरुआत होती है.

शराब और उनके जैसे नशीले पदार्थ से स्वयम की चेतना को भूलना और मूढ़ता में प्रवेश करना ही अध्यात्म के लिए आपतिजनक है इसलिए तो शराब को गलत माना गया है. उनका मतलब यही हुवा की हमे किसीभी तरह अपने आप की अभिव्यक्ति में वापस आना होगा.

कोई एक कार्य को निश्चित करे फिर उसे किसीभी हालत में करे

हमारे शरीर और मन से हमारी सत्ता स्वतंत्र है हमे उनका नियन्त्रण करना है हमे उनके नियन्त्रण में नही है. ऐसी सोच हमे develop करनी होगी. तब जाके हम अपनी विपरीत आदत पर काबू पा शकेगे.

एक आसान सा उपाय एक छोटा संकल्प मतलब की कोई कार्य करनेकी ठान ले फिर किसीभी हाल में वह पूरा करे. इस तरह से आपका आत्मविश्वास बढ़ जायेगा. लेकिन याद रहे हमे अपने उस कार्य को कैसे भी करके करना होगा. एक बार हम अपने आप पर काबू पाना शिख जायेगे फिर यही आत्मविश्वास हमे आगे बढाता रहेगा.

याद रखे मन और तन को हमे चलाना है हमे वह चलाता नही है

ऐसे धीरे धीरे हमारी अपनी सत्ता को develop करते जाने से हम मन चाहां परिवर्तन अपने आप पर कर पायेगे. आदत कितनीभी बुरी क्यों न हो अंत में तो वह एक आदत ही है. उससे मुक्त होनेके लिए उनसे उलटी आदत को डालना.

अगर देर से उठने की आदत है तो सुबह पर थोडा जल्दी उठना शुरू की जिए. यहा पर एक जड़ता अपनानी होगी. क्योकि जो आदत हमारे जीवन में बैठ गई है, उनसे मुक्त होने के लिए थोडा प्रयास तो करना ही पड़ेगा.

जितनी बुरी आदत गहरी इतना प्रयासभी भारी करना होगा. जो करना है उसे एक कागज पर लिख ली जिए. फिर उसका किसीभी तरह से पालन कीजिए. यहा पर मन बार बार रोकेगा न करने को मनायेगाभी ! फिरभी उसके साथ बस लगे ही रहे उसे छोड़े नही किसीभी हाल पर.

बुरी आदत के विपरीत अच्छी आदत को मजबूत बनाये

एक बाद याद रखो की ये मुश्केली तब तक ही है जब तक बुरी आदत के सामने अच्छी आदत मजबूत न हो जाये. आग बहुत बड़ी हो तो वह पानी को भी सुखा देती है लेकिन धीरे धीरे अगर पानी डालते ही रहे, डालते ही रहे. तो धीरे धीरे पानी बढ़ जायेगा और आग की शक्ति कम होती जाएगी.

फिर उनपर हम काबू पा शकेगे. इसलिए प्रयास जरूरी है. ऐसा वातावरण develop कीजीये की हमारी बुरी आदत को रोक शके. create that atmosphere which can stop our bad habit किसी को शराब पिने की आदत है. तो ऐसे माहौल से दूर रहे. ऐसे व्यक्ति से दूर रहे, जो हमे ऐसी आदत का शिकार बनाये. इनसे विपरीत उन लोगो से सम्बन्ध बढाये जो हमे स्वतत्रता दे. हमे दिव्यता के पथ पर आगे बढ़ानेमें मदद करे. जिससे हमे प्रेरणा मिल पाए.

Leave a Comment