विद्यां चाविद्यां च यस्तद्वेदोभयं सह ।

अविद्यया मृत्युं तीर्त्वा विद्ययामृतमश्नुते  ॥ ईशोपनिषद्, मंत्र ११ ॥

ज्ञान का मतलब केवल शब्द नही, हा शब्द से एक नकशा बनता है.. 

उनके आधार पर कुछ तैयारी की जा शकती है..

उसी के आधार पर लगातार प्रयास करने होते है..

फिर एक स्थिति बनती है उसी स्थिति में जीवन सुमधुर और आनंद से भरपूर बन जाता है.

केवल अचेतस होकर किये गये कर्म बार बार उलझन में डालते है 

उसी तरह से कार्य की अवहेलना निष्क्रियता लाती है दोनों का सुभग समन्वय ही साधना है 

                                                                                                                                                                              -Chaitanya Nilesh

ध्यान एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमे हम पूरी तरह से recharge हो जाते है. आम तौर पर तो लोग इसे एक concentration लगाने की तरकीब ही मानते है. मतलब की हम मन को कोई एक

हमारे वैदिक सनातन धर्म में जीवन को जीने के और उनके द्वारा जीवन लक्ष्य की प्राप्ति के अनेक मार्ग है. जिसमे ज्ञान मार्ग है, कर्म मार्ग है, योग है, सांख्य है, भक्ति योग है. इस

मित्रो ! एक बेहद महत्वपूर्ण बात हम यहा पर करने वाले है. ये बात ऐसी है की हमारी आजतक की पूरी समज को हिलाकर रख देगी ! हमारी इस चर्चा में हमे ये भी जानने

ज्यादा सोचने से छुटकारा कैसे पाए ? ये प्रश्न अक्सर आप के मन में उठ रहा होगा ! ज्यादा सोचने वाले लोग अपनी इसी आदत से इतना परेशान हो जाते है की उसे क्या करना

कर्म योग एक गीता का विज्ञान है. कर्म किये बिना कोई रह नही शकता. लेकिन अगर हमारे कर्म ऐसे हो की हमे धीरे धीरे निम्न स्तर पर लाये तो ये बंधनकर्ता होगे. लेकिन अगर ऐसे कर्म किये जाये की

आखिर क्या है साधना का राज ?-What Is Spiritual Awakening

मनुष्य इस ब्रह्मांड का एक ऐसा लोता प्राणी है जिनके पास बुध्धि है. वह अपनी बुध्धि का इस्तमाल करके अपनी स्थिति के बारेमे सोच शकता है. उन्हें सुधार शकता है. उनका जो आजका जीवन है..

Read More
aim of life

जीवन का एक ऐसा रहस्य जो आज तक हम नही जानते ?-My aim in life

हमे जीवन में क्या करना है ? हमें जीवन क्यों मिला है ? हमारा जन्म क्यों हुवा है ? ये प्रश्न ऐसे है की हरेक को जीवन में कभी कभी तो उठते ही है !! what is the aim of our life. जब कोई जीवन से थक जाये, तब उसे ये सवाल मन ही मन बेचेन कर देता है.

Read More

Self awareness necessary in success-स्व जागरूकता सफलता के लिए भी जरूरी

यहा कुछ ऐसी गलतिया जो हम स्वयम करते है और उनका दोष हमारे नसीब पर देते है. वास्तवमे कर्म और उनका फल दोनों एक ही है क्योकि कर्म की परिकव स्थिती ही उनका फल है.

Read More

Page [tcb_pagination_current_page] of [tcb_pagination_total_pages]

To experience inner self and use it in our life is Spiritual

वर्तमान समय जो हमारे सामने है वह कसोटी का भी है और opportunity का भी. दिशा का चयन और भीतरिय ज्ञान का जागरण यहा पर जरूरी है. केवल आधारित रहकर कोई सफलता और निंरतर आनंद नही पा शकता. ये सब और इनके अलावा बहुत कुछ जो जीवन में जरूरी है उसमे एक साथ की तरह ये articles है. इतना ही नही अलग अलग वीडियो वाले कोर्षभी है जो समय समय पर साथ देता रहे..